Hindi Moral Story “Sreshth Var Kaun”, “श्रेष्ठ वर कौन” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

श्रेष्ठ वर कौन

मगध देश में महाबल नाम का एक राजा राज्य करता था । जिसके महादेवी नाम की बड़ी सुन्दर कन्या थी। वह अद्वितीय रूपवती थीं। जब वह विवाह योग्य हुई तो राजा को बहुत चिन्ता होने लगी।

बहुत से राजकुमार आये लेकिन राजकुमारी को कोई पसंद न आया। राजा ने सोचा जो राजकुमार शक्तिशाली और गुणवान होगा उसी से राजकुमारी का विवाह होगा।

एक दिन एक राजकुमार राजदरबार में आया और बोला- “मैं राजकुमारी का हाथ मांगने आया हूँ।”

राजा ने कहाँ-“मैं अपनी लड़की उसे दूँगा, जिसमें सब गुण होंगे।”

राजकुमार ने कहा-“मेरे पास एक ऐसा रथ है, जिस पर बैठकर जहाँ चाहो, घड़ी-भर में पहुँच जाओगे।”

राजा बोला-“ठीक है। कुछ दिन इंतजार करें, मैं राजकुमारी से पूछकर बताता हूँ।”

फिर एक दिन एक और राजकुमार आया और उसने कहा- “मैं त्रिकालदर्शी हूँ। मैं भूत, वर्तमान और भविष्य तीनों की बातें बता सकता हूँ।”

राजा ने उसे भी इंतजार करने को कहा।

कुछ दिन बाद एक और राजकुमार आया। जब राजा ने उससे पूछा कि आपमें क्या गुण हैं तब….

उस तीसरे राजकुमार ने कहा- “मैं धनुर्विद्या में निपुण हूँ। धनुष चलाने में मेरा कोई मुकाबला नहीं कर सकता।”

इस तरह तीन वर इकट्ठे हो गये। राजा सोचने लगा कि कन्या एक है, राजकुमार तीन हैं। तीनों ही सुंदर और गुणवान हैं। क्या करे! इसी बीच एक राक्षस आया और राजकुमारी को उठाकर विंध्याचल पहाड़ पर ले गया। तीनों वरों में जो त्रिकालदर्शी था|

राजा ने उस त्रिकालदर्शी राजकुमार से कहा- तो उसने बता दिया कि एक राक्षस राजकुमारी को उड़ा ले गया है और वह विंध्याचल पहाड़ पर है।

दूसरे राजकुमार ने कहा-“मेरे रथ पर बैठकर चलो। ज़रा सी देरी में वहाँ पहुँच जायेंगे।”

तीसरा राजकुमार बोला-“मैं शब्दवेधी तीर चलाना जानता हूँ। राक्षस को मार गिराऊँगा।”

वे सब रथ पर चढ़कर विंध्याचल पहुँचे और राक्षस को मारकर राजकुमारी को बचा लाये।

इतना कहकर बेताल बोला- “हे राजन् विक्रम! न्यायी विक्रम, अब तुम न्याय करो। बताओ, वह राजकुमारी उन तीनों में से किसको मिलनी चाहिए?”

राजा विक्रम ने कहा- “जिसने राक्षस को मारा, उसकों मिलनी चाहिए, क्योंकि असली वीरता तो उसी ने दिखाई। बाकी दो ने तो सिर्फ मदद की।” राजा का इतना कहना था कि बेताल फिर पेड़ पर जा लटका और राजा विक्रम फिर बेताल के पीछे दोडे।

Related posts:

English Short, Moral Story “A Confused Mind" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, comp...
Moral Story
Hindi Moral Story "Lobh nhi krna chahiye", "लोभ नहीं करना चाहिये” for Kids, Full length Educational ...
Children Story
English Short, Moral Story “The Praying Hands" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, co...
Moral Story
English Short, Moral Story “A Teacher’s Protest” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, ...
English Story
English Short, Moral Story “Solution to Problems" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10,...
Children Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Chor ki Dadhi me Tinka", "चोर की दाढ़ी में तिनका" for Kids, Educatio...
हिंदी कहानियां
English Short, Moral Story “Son of a Merchant" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, co...
English Story
Hindi Moral Story "Aacharan ka Prabhav" "आचरण का प्रभाव" Best Motivational Story of "Sant Gyaneshwar...
Story
Short Story "The Hunter and The Doves" for Children, moral story for kids in English for competition...
Children Story
English Short, Moral Story “Overcoming Desires" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Children Story
English Short, Moral Story “The Crane and The Snake" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, ...
Short Story
Akbar-Birbal English Moral Story "The True King" for Kids, Educational Story for Students of class 5...
Short Story
English Short, Moral Story “True love dies on earth and reborn in Heaven" for Kids and Children for ...
Moral Story
Hindi Moral Story “Lalchi Chuha”, “लालची चूहा” for Kids, Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.
हिंदी कहानियां
Moral Story "How will You Respond " for Kids and Children, English Story for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10...
Children Story
English Inspirational Story “The Hardworking Never Stop” Moral Story for kids and Students.
Moral Story
English Short, Moral Story “Find Your Own Vision to Achieve Goal” for Kids and Children for Class 5,...
Moral Story
English Inspirational Story “As You Give, So You Receive” Moral Story for kids and Students.
Moral Story
Hindi Moral Story "Jhagde se Door Rhen", "झगडे से दूर रहें” for Kids, Full length Educational Story ...
Children Story
Short Story " A Merchant and his Donkey" for Children, moral story for kids in English for competiti...
Children Story

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.