Hindi Moral Story “Batuni Kachua”, “बतौनी कछुआ” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

बतौनी कछुआ

Batuni Kachua

एक तालाब में एक कछुआ रहता था। उसी तलाब में दो हंस तैरने के लिए उतरते थे। हंस बहुत हंसमुख और मिलनसार थे। कछुए और उनमें दोस्ती हते देर न लगी। हंसो को कछुए का धीमे-धीमे चलना और उसका भोलापन बहुत अच्छा लगा। हंस बहुत ज्ञानी भी थे। वे कछुए को अदभुत बातें बताते। ॠषि-मुनियों की कहानियां सुनाते। हंस तो दूर-दूर तक घूमकर आते थे, इसलिए दूसरी जगहों की अनोखी बातें कछुए को बताते। कछुआ मंत्रमुग्ध होकर उनकी बातें सुनता। बाकी तो सब ठीक था, पर कछुए को बीच में टोका-टाकी करने की बहुत आदत थी। अपने सज्जन स्वभाव के कारण हंस उसकी इस आदत का बुरा नहीं मानते थे। उन तीनों की घनिष्टता बढती गई। दिन गुजरते गए। एक बार बडे जोर का सुखा पडा। बरसात के मौसम में भी एक बूंद पानी नहीं बरसा। उस तालाब का पानी सूखने लगा। प्राणी मरने लगे, मछलियां तो तडप-तडपकर मर गईं। तालाब का पानी और तेजी से सूखने लगा। एक समय ऐसा भी आया कि तालाब में खाली कीचड रह गया। कछुआ बडे संकट में पड गया। जीवन-मरण का प्रश्न खडा हो गया। वहीं पडा रहता तो कछुए का अंत निश्चित था। हंस अपने मित्र पर आए संकट को दूर करने का उपाय सोचने लगे। वे अपने मित्र कछुए को ढाडस बंधाने का प्रयत्न करते और हिम्म्त न हारने की सलाह देते। हंस केवल झूठा दिलासा नहीं दे रहे थे। वे दूर-दूर तक उडकर समस्या का हल ढूढते। एक दिन लौटकर हंसो ने कहा “मित्र, यहां से पचास कोस दूर एक झील हैं।उसमें काफी पानी हैं तुम वहां मजे से रहोगे।”

 

कछुआ रोनी आवाज में बोला “पचास कोस? इतनी दूर जाने में मुझे महीनों लगेंगे। तब तक तो मैं मर जाऊंगा।” कछुए की बात भी ठीक थी। हंसो ने अक्ल लडाई और एक तरीका सोच निकाला। वे एक लकडी उठाकर लाए और बोले “मित्र, हम दोनों अपनी चोंच में इस लकडी के सिरे पकडकर एक साथ उडेंगे। तुम इस लकडी को बीच में से मुंह से थामे रहना। इस प्रकार हम उस झील तक तुम्हें पहुंचा देंगे उसके बाद तुम्हें कोई चिन्ता नहीं रहेगी।” उन्होंने चेतावनी दी “पर याद रखना, उडान के दौरान अपना मुंह न खोलना। वरना गिर पडोगे।” कछुए ने हामी में सिर हिलाया। बस, लकडी पकडकर हंस उड चले। उनके बीच में लकडी मुंह दाबे कछुआ। वे एक कस्बे के ऊपर से उड रहे थे कि नीचे खडे लोगों ने आकाश में अदभुत नजारा देखा। सब एक दूसरे को ऊपर आकाश का दॄश्य दिखाने लगे। लोग दौड-दौडकर अपने चज्जों पर निकल आए। कुछ अपने मकानों की छतों की ओर दौडे। बच्चे बूडे, औरतें व जवान सब ऊपर देखने लगे। खूब शोर मचा। कछुए की नजर नीचे उन लोगों पर पडी। उसे आश्चर्य हुआ कि उन्हें इतने लोग देख रहे हैं। वह अपने मित्रों की चेतावनी भूल गया और चिल्लाया “देखो, कितने लोग हमें देख रहे है!” मुंह के खुलते ही वह नीचे गिर पडा। नीचे उसकी हड्डी-पसली का भी पता नहीं लगा।

Related posts:

English Short, Moral Story “One Bedroom Flat” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, com...
Short Story
English Short, Moral Story “A Stupid Man's Prejudice" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9,...
Children Story
English Short, Moral Story “The Faithful Mongoose" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10...
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Kaun Gadha Tambakhu Khata Hai", "कौन गधा तम्बाकू खाता है" for Kids, ...
हिंदी कहानियां
Hindi Moral Story "Parmatma aur Kisan", "परमात्मा और किसान” for Kids, Full length Educational Story ...
Children Story
English Short, Moral Story “The Crane and The Snake" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, ...
Short Story
English Short, Moral Story “The Princess and the Golden Ball" for Kids and Children for Class 5, 6, ...
Moral Story
English Short Moral Story “Two Friends & The Bear” for Kids and Children, Essay for Class 5, 6, 7, 8...
Children Story
English Short, Moral Story “You Cannot Please Everyone" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, ...
Moral Story
Short Story "The Making of A Lion" for Children, moral story for kids in English for competition wit...
Children Story
English Essay, Moral Story “Wealth - Love - Success” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, ...
Short Story
Moral Story "Never Lose Hope " for Kids and Children, English Story for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Children Story
Hindi Moral Story "Dimag ke Bina Gadha", "दिमाग़ के बिना गधा” for Kids, Full length Educational Stor...
Children Story
Short Story "Ribbit The Rabbit" for Children, moral story for kids in English for competition with m...
Children Story
English Short, Moral Story “Old Man and his Son" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, ...
Moral Story
English Short, Moral Story “Story of Thumbelina" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, ...
Children Story
English Inspirational Story “No Failure, Only Results” Bedtime Moral Story for kids and Students.
Moral Story
English Short, Moral Story “Overcoming Desires" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Children Story
English Short, Moral Story “The Foolish Lion" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, com...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Master or Servant?" for Kids, Educational Story for Students of cl...
Uncategorized

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *