Hindi Moral Story “Teen Ajoobe Bhai”, “तीन अजूबे भाई” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

तीन अजूबे भाई

अंग देश के एक गाँव मे एक धनी ब्राह्मण रहता था। उसके तीन पुत्र थे। एक बार ब्राह्मण ने एक यज्ञ करना चाहा। उसके लिए एक समुद्री कछुए की जरूरत हुई। उसने तीनों भाइयों को कछुआ लाने को कहा। वे तीनों समुद्र पर पहुँचे। वहाँ उन्हें एक कछुआ मिल गया।

बड़े ने कहा- “मैं भोजनचंग हूँ, इसलिए कछुए को नहीं छुऊँगा।”

मझला बोला- “मैं नारीचंग हूँ, मैं नहीं ले जाऊँगा।”

सबसे छोटा बोला- “मैं शैयाचंग हूँ, सो मैं नहीं ले जाऊँगा।”

वे तीनों इस बहस में पड़ गये कि उनमें कौन बढ़कर है। जब वे आपस में इसका फैसला न कर सके तो राजा के पास पहुँचे।

राजा ने कहा- “आप लोग रुकें। मैं तीनों की अलग-अलग जाँच करूँगा।”

इसके बाद राजा ने बढ़िया भोजन तैयार कराया और तीनों खाने बैठे।

सबसे बड़े ने कहा- “मैं खाना नहीं खाऊँगा। इसमें मुर्दे की गन्ध आती है।” वह उठकर चला। राजा ने पता लगाया तो मालूम हुआ कि वह भोजन श्मशान के पास के खेत का बना था।

राजा ने कहा- “तुम सचमुच भोजनचंग हो, तुम्हें भोजन की पहचान है।”

रात के समय राजा ने एक सुन्दर स्त्री को मझले भाई के पास भेजा।

स्त्री जैसे ही वहाँ पहुँची कि मझले भाई ने कहा- “इसे हटाओ यहाँ से। इसके शरीर से बकरी की दूध की गंध आती है।”

राजा ने यह सुनकर पता लगाया तो मालूम हुआ कि वह स्त्री बचपन में बकरी के दूध पर पली थी।

राजा बड़ा खुश हुआ और बोला- “तुम सचमुच नारीचंग हो।”

इसके बाद तीसरे भाई की बारी आई- तीसरे भाई को सोने के लिए सात गद्दों का पलंग दिया। जैसे ही वह उस पर लेटा कि एकदम चीखकर उठ बैठा। लोगों ने देखा, उसकी पीठ पर एक लाल रेखा खींची थी। राजा को ख़बर मिली तो उसने बिछौने को दिखवाया। सात गद्दों के नीचे उसमें एक बाल निकला। उसी से उसकी पीठ पर लाल लकीर हो गयी थीं।

राजा को बड़ा अचरज हुआ उसने तीनों को एक-एक लाख अशर्फियाँ दीं। अब वे तीनों कछुए को ले जाना भूल गये, वहीं आनन्द से रहने लगे।

इतना कहकर बेताल बोला- “हे राजन विक्रम! तुम बताओ, उन तीनों में से बढ़कर कौन था?”

राजा विक्रम ने कहा- “मेरे विचार से सबसे बढ़कर शैयाचंग था, क्योंकि उसकी पीठ पर बाल का निशान दिखाई दिया और ढूँढ़ने पर बिस्तर में बाल पाया भी गया। बाकी दो के बारे में तो यह कहा जा सकता है कि उन्होंने किसी से पूछकर जान लिया होगा।”

इतना सुनते ही बेताल फिर पेड़ पर जा लटका। राजा लौटकर वहाँ गया और उसे लेकर लौटा तो उसने अगली कहानी कही।

Related posts:

Short Story "Honesty will always be rewarded" for Children, moral story for kids in English for comp...
Children Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Khane ke Baad Letna", "खाने के बाद लेटना" for Kids, Educational Stor...
हिंदी कहानियां
English Moral Story "Repayment of Favor" for Kids, Full length Educational Story for Students of Cla...
Children Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Pair aur Chappal", "पैर और चप्पल" for Kids, Educational Story for St...
Children Story
English Short, Moral Story “Price of Necklace" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, co...
Moral Story
English Short, Moral Story “Never Judge without Understanding” for Kids and Children for Class 5, 6,...
Moral Story
English Inspirational Story "The Guilt of Sin" Moral Story for kids and Students.
Moral Story
English Inspirational Story “Perfection is the Seal of Brilliance” Moral Story for kids and Students...
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Kiski Nemat", "किसकी नेमत" for Kids, Educational Story for Students ...
हिंदी कहानियां
Short Story "Cunning Fox and the Clever Stork " for Children, moral story for kids in English for co...
Children Story
English Short, Moral Story “Lazy Farmer” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, compet...
Moral Story
Hindi Moral Story "Bagh aur Bagula”, “बाघ और बगुला” for Kids, Full length Educational Story for Stud...
Children Story
English Short, Moral Story “Two Burdened Asses" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
Hindi Moral Story "Sahas ho to Asambhav bhi Sambhav", "साहस हो तो असम्भव भी सम्भव” for Kids, Full le...
Children Story
Short Story "Taking Responsibility" for Children, moral story for kids in English for competition wi...
Children Story
English Short, Moral Story “Planning ahead makes lives easier" for Kids and Children for Class 5, 6,...
Moral Story
Moral Story "Being Honest " for Kids and Children, English Story for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, compe...
Children Story
Short Story "The Palace and The Hut" for Children, moral story for kids in English for competition w...
Children Story
Hindi Moral Story "Jaldbaji me Hal Sochna Budhimani Nahi", "जल्दबाजी में हल सोचना बुद्धिमानी नहीं”
Children Story
Hindi Moral Story “Kar Bhala Ho Bhala”, “कर भला हो भला” for Kids, Full length Educational Story for ...
Children Story

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.