Home » Children Story » Hindi Moral Story “Sher aur Khargosh”, “शेर और खरगोश” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

Hindi Moral Story “Sher aur Khargosh”, “शेर और खरगोश” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

शेर और खरगोश

Sher aur Khargosh

किसी जंगल में एक शेर रहता था| शेर कई दिनों से भूखा था| जब वह अपनी मांद से शिकार करने निकल रहा था तो उसने देखा कि एक खरगोश उसकी मांद के करीब ही खेल रहा है| शेर जैसे ही उस पर झपटने वाला था, सामने एक हिरन दिखाई दिया| शेर ने सोचा खरगोश तो बहुत छोटा है,नाश्ता भी पूरा नहीं होगा हिरन काफी बड़ा है उसी को मारना चाहिए| अत वह शेर खरगोश को छोड़ कर उस हिरन के पीछे दौड़ पड़ा| लेकिन वह हिरन शेर को देख कर, बहुत तेज दौड़ने लगा और जल्दी ही वह शेर की आँखों से ओझल हो गया| शेर ने हिरन को तेज दौड़ते हुए देखा तो वह सोचने लगा कि वह अब हिरन को नहीं पकड़ सकेगा| हिरन के आँखों से ओझल होते ही शेर पूरा भोजन पाने की आशा छोड़ बैठा| उसने मन ही मन निश्चय किया कि हिरन का पीछा करना अब बेकार है| मुझे खरगोश के पास ही लौट जाना चाहिए| उसको खाने से मेरा कुछ तो पेट भरेगा| किन्तु वह जब लौट कर वापस अपनी मांद के पास पहुंचा तो वहां खरगोश को न पाकर वह आश्चर्य में पड़ गया| वह सोचने लगा मैं तो खरगोश को यहीं छोड़ गया था? फिर यह खरगोश कहाँ चला गया? जरुर यही कहीं छिपा होगा| मैं अभी उसको तलाश करता हूँ|

 

वह मुझसे बच कर कहाँ जा सकता है? यह सोच कर वह शेर उस खगोश को तलाश करने लगा| उसने मांद के अन्दर देखा, मांद के बाहर देखा मगर उसे कहीं भी वह खरगोश नज़र नहीं आया| खरगोश तो शेर के वहां से जाते ही रफूचक्कर हो गया था| खरगोश को वहां न पाकर शेर बड़ा हताश हुआ| हिरन और खरगोश दोनों ही उसका भोजन बनने से बच गए थे| शेर हिरन का ध्यान कर सोचने लगा जब मैंने उसे देखा था तो सोचा था, हिरन खरगोश से बड़ा है इसलिए उसको खाकर मेरा पेट भर जाएगा| खरगोश तो बहुत छोटा है-उसको खाकर मेरा पेट भी नहीं भर सकता| अत मैं खरगोश को छोड़ कर हिरन का शिकार करने के लिए उसके पीछे दौड़ पड़ा| लेकिन दुर्भाग्य कि वह हिरन मेरे हाथ नहीं आया और तेजी से भाग गया| अपने दोनों शिकार हाथ से निकल जाने के कारन शेर बड़ा पछताया और बोला,मैंने थोडा छोड़ कर ज्यादा पाने के लालच में अपना सबकुछ खो दिया| मैं न थोडा पा सका न ज्यादा| इस लिए कहते हैं कि ज्यादा पाने के लालच में थोड़े से भी हाथ धोना पड़ जाता है|

Related posts:

English Short, Moral Story “Two Frogs” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, competitio...
Children Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal Identifies Thief" for Kids, Educational Story for Students ...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal, can you Identify The Guest" for Kids, Educational Story fo...
Moral Story
Moral Story "Kid's Capability" for Kids and Children, English Story for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, com...
Children Story
English Short, Moral Story “The Fox and the Crow" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10,...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal Shortens Road" for Kids, Educational Story for Students of ...
Short Story
English Short, Moral Story “The Giraffe’s Neck" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Protection of the Footmark of an Elephant" for Kids, Educational S...
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Kaun Gadha Tambakhu Khata Hai", "कौन गधा तम्बाकू खाता है" for Kids, ...
हिंदी कहानियां
English Short, Moral Story “A Dog in a Manager" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
English Short, Moral Story “Peace Of Mind" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, compet...
Children Story
English Inspirational Story “Everyone is Right” Moral Story for kids and Students.
Moral Story
English Moral Story "Keep Positive Attitude towards Life" for Kids, Full length Educational Story fo...
Children Story
English Short, Moral Story “Kindness never goes Unrewarded" for Kids and Children for Class 5, 6, 7,...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "List of blinds" for Kids, Educational Story for Students of class ...
Moral Story
English Short, Moral Story “Overcoming Desires" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Children Story
English Short, Moral Story “Good Deeds Never Go Unrewarded” for Kids and Children for Class 5, 6, 7,...
Short Story
English Short, Moral Story “The Clever King” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, comp...
Moral Story
English Short, Moral Story “Think twice before you speak" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8...
Moral Story
Hindi Moral Story "Nanhi Chidiya", "नन्हीं चिड़िया” for Kids, Full length Educational Story for Stud...
Children Story

About

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.