Hindi Moral Story “Ekta mein Bal hai”, “एकता मे बल है” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

एकता मे बल है

Ekta mein Bal hai

एक समय की बात हैं कि कबूतरों का एक दल आसमान में भोजन की तलाश में उडता हुआ जा रहा था। गलती से वह दल भटककर ऐसे प्रदेश के ऊपर से गुजरा, जहां भयंकर अकाल पडा था। कबूतरों का सरदार चिंतित था। कबूतरों के शरीर की शक्ति समाप्त होती जा रही थी। शीघ्र ही कुछ दाना मिलना जरुरी था। दल का युवा कबूतर सबसे नीचे उड रहा था। भोजन नजर आने पर उसे ही बाकी दल को सुचित करना था। बहुत समय उडने के बाद कहीं वह सूखाग्रस्त क्षेत्र से बाहर आया। नीचे हरियाली नजर आने लगी तो भोजन मिलने की उम्मीद बनी। युवा कबूतर और नीचे उडान भरने लगा। तभी उसे नीचे खेत में बहुत सारा अन्न बिखरा नजर आया “चाचा, नीचे एक खेत में बहुत सारा दाना बिखरा पडा हैं। हम सबका पेट भर जाएगा।’ सरदार ने सूचना पाते ही कबूतरों को नीचे उतरकर खेत में बिखरा दाना चुनने का आदेश दिया।

 

सारा दल नीचे उतरा और दाना चुनने लगा। वास्तव में वह दाना पक्षी पकडने वाले एक बहलिए ने बिखेर रखा था। ऊपर पेड पर तना था उसका जाल। जैसे ही कबूतर दल दाना चुगने लगा, जाल उन पर आ गिरा। सारे कबूतर फंस गए। कबूतरों के सरदार ने माथा पीटा “ओह! यह तो हमें फंसाने के लिए फैलाया गया जाल था। भूख ने मेरी अक्ल पर पर्दा डाल दिया था। मुझे सोचना चाहिए था कि इतना अन्न बिखरा होने का कोई मतलब हैं। अब पछताए होत क्या, जब चिडिया चुग गई खेत?” एक कबूतर रोने लगा “हम सब मारे जाएंगे।” बाकी कबूतर तो हिम्मत हार बैठे थे, पर सरदार गहरी सोच में डूबा था। एकाएक उसने कहा “सुनो, जाल मजबूत हैं यह ठीक हैं, पर इसमें इतनी भी शक्ति नहीं कि एकता की शक्ति को हरा सके। हम अपनी सारी शक्ति को जोडे तो मौत के मुंह में जाने से बच सकते हैं।” युवा कबूतर फडफडाया “चाचा! साफ-साफ बताओ तुम क्या कहना चाहते हो। जाल ने हमें तोड रखा हैं, शक्ति कैसे जोडे?” सरदार बोला “तुम सब चोंच से जाल को पकडो, फिर जब मैं फुर्र कहूं तो एक साथ जोर लगाकर उडना।” सबने ऐसा ही किया।

 

तभी जाल बिछाने वाला बहेलियां आता नजर आया। जाल में कबूतर को फंसा देख उसकी आंखें चमकी। हाथ में पकडा डंडा उसने मजबूती से पकडा व जाल की ओर दौडा। बहेलिया जाल से कुछ ही दूर था कि कबूतरों का सरदार बोला “फुर्रर्रर्र!” सारे कबूतर एक साथ जोर लगाकर उडे तो पूरा जाल हवा में ऊपर उठा और सारे कबूतर जाल को लेकर ही उडने लगे। कबूतरों को जाल सहित उडते देखकर बहेलिया अवाक रह गया। कुछ संभला तो जाल के पीछे दौडने लगा। कबूतर सरदार ने बहेलिए को नीचे जाल के पीछे दौडते पाया तो उसका इरादा समझ गया। सरदार भी जानता था कि अधिक देर तक कबूतर दल के लिए जाल सहित उडते रहना संभव न होगा। पर सरदार के पास इसका उपाय था। निकट ही एक पहाडी पर बिल बनाकर उसका एक चूहा मित्र रहता था। सरदार ने कबूतरों को तेजी से उस पहाडी की ओर उडने का आदेश दिया। पहाडी पर पहुंचते ही सरदार का संकेत पाकर जाल समेत कबूतर चूहे के बिल के निकट उतरे। सरदार ने मित्र चूहे को आवाज दी। सरदार ने संक्षेप में चूहे को सारी घटना बताई और जाल काटकर उन्हें आजाद करने के लिए कहा। कुछ ही देर में चूहे ने वह जाल काट दिया। सरदार ने अपने मित्र चूहे को धन्यवाद दिया और सारा कबूतर दल आकाश की ओर आजादी की उडान भरने लगा।

Related posts:

English Inspirational Story "The Positive Side of Things" Moral Story for kids and Students.
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Joru ka Gulam", "जोरू का गुलाम" for Kids, Educational Story for Stud...
Children Story
Hindi Moral Story "Suni Sunai Baat”, "सुनी सुनाई बात” for Kids, Full length Educational Story for St...
हिंदी कहानियां
English Short, Moral Story “Elephants and a Rope" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10,...
Moral Story
English Short, Moral Story “The Clever Jackal And The Foolish Donkey" for Kids and Children for Clas...
Moral Story
Hindi Moral Story “Buri Sangati”, “बुरी संगति” for Kids, Full length Educational Story for Students ...
Children Story
English Short, Moral Story “What is For Dinner" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
English Short Moral Story “The Wise Man” for Kids and Children, Essay for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10 wi...
Children Story
Hindi Moral Story “Chandu Ne Sabak Seekha”, “चंदू ने सबक सीखा” for Kids, Students of Class 5, 6, 7, ...
Children Story
Hindi Moral Story "Sreshth Var Kaun", "श्रेष्ठ वर कौन” for Kids, Full length Educational Story for S...
Children Story
English Short, Moral Story “Reason for Sharing" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
English Inspirational Story "Stilling the Mind" Moral Story for kids and Students.
Moral Story
Short Story "The Bonded Donkey" for Children, moral story for kids in English for competition with m...
Children Story
English Moral Story "Colonel Harland Sanders" for Kids, Full length Educational Story for Students o...
Children Story
Hindi Moral Story "Ahankari ka Ant”, "अहंकारी का अंत” for Kids, Full length Educational Story for St...
हिंदी कहानियां
Hindi Moral Story “Lalchi Brahman”, “लालची ब्राह्मण” for Kids, Full length Educational Story for Stu...
Children Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal Is Brief" for Kids, Educational Story for Students of class...
Moral Story
Hindi Moral Story "Raja ke Sau Chehre", "राजा के सौ चेहरे” for Kids, Full length Educational Story f...
Hindi Stories
English Short, Moral Story “The Wolf and the Shepherd Boy" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, ...
Moral Story
English Short, Moral Story “The Faithful Mongoose" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10...
Moral Story

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *