Hindi Moral Story “Dhol ki Pol”, “ढोल की पोले” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

ढोल की पोले

Dhol ki Pol

 

एक बार एक जंगल के निकटदो राजाओं के बीच घोर युद्ध हुआ। एक जीता दूसरा हारा। सेनाएं अपने नगरों को लौट गई। बस, सेना का एक ढोल पीछे रह गया। उस ढोल को बजा-बजाकर सेना के साथ गए भांड व चारण रात को वीरता की कहानियां सुनाते थे। युद्ध के बाद एक दिन आंधी आई। आंधी के जोर में वह ढोल लुढकता-पुढकता एक सूखे पेड के पास जाकर टिक गया। उस पेड की सूखी टहनियां ढोल से इस तरह से सट गई थी कि तेज हवा चलते ही ढोल पर टकरा जाती थी और ढमाढम ढमाढम की गुंजायमान आवाज होती। एक सियार उस क्षेत्र में घूमता था। उसने ढोल की आवाज सुनी। वह बडा भयभीत हुआ। ऐसी अजीब आवाज बोलते पहले उसने किसी जानवर को नहीं सुना था। वह सोचने लगा कि यह कैसा जानवर हैं, जो ऐसी जोरदार बोली बोलता हैं’ढमाढम’। सियार छिपकर ढोल को देखता रहता, यह जानने के लिए कि यह जीव उडने वाला हैं या चार टांगो पर दौडने वाला। एक दिन सियार झाडी के पीछे छुप कर ढोल पर नजर रखे था। तभी पेड से नीचे उतरती हुई एक गिलहरी कूदकर ढोल पर उतरी। हलकी-सी ढम की आवाज भी हुई। गिलहरी ढोल पर बैठी दाना कुतरती रही। सियार बडबडाया “ओह! तो यह कोई हिंसक जीव नहीं हैं। मुझे भी डरना नहीं चाहिए।” सियार फूंक-फूंककर कदम रखता ढोल के निकट गया। उसे सूंघा। ढोल का उसे न कहीं सिर नजर आया और न पैर। तभी हवा के झुंके से टहनियां ढोल से टकराईं। ढम की आवाज हुई और सियार उछलकर पीछे जा गिरा। “अब समझ आया।” सियार उढने की कोशिश करता हुआ बोला “यह तो बाहर का खोल हैं।जीव इस खोल के अंदर हैं।

आवाज बता रही हैं कि जो कोई जीव इस खोल के भीतर रहता हैं, वह मोटा-ताजा होना चाहिए। चर्बी से भरा शरीर। तभी ये ढम=ढम की जोरदार बोली बोलता हैं।” अपनी मांद में घुसते ही सियार बोला “ओ सियारी! दावत खाने के लिए तैयार हो जा। एक मोटे-ताजे शिकार का पता लगाकर आया हूं।” सियारी पूछने लगी “तुम उसे मारकर क्यों नहीं लाए?” सियार ने उसे झिडकी दी “क्योंकि मैं तेरी तरह मूर्ख नहीं हूं। वह एक खोल के भीतर छिपा बैठा हैं। खोल ऐसा हैं कि उसमें दो तरफ सूखी चमडी के दरवाजे हैं।मैं एक तरफ से हाथ डाल उसे पकडने की कोशिश करता तो वह दूसरे दरवाजे से न भाग जाता?” चांद निकलने पर दोनों ढोल की ओर गए। जब वह् निकट पहुंच ही रहे थे कि फिर हवा से टहनियां ढोल पर टकराईं और ढम-ढम की आवाज निकली। सियार सियारी के कान में बोला “सुनी उसकी आवाज्? जरा सोच जिसकी आवाज ऐसी गहरी हैं, वह खुद कितना मोटा ताजा होगा।” दोनों ढोल को सीधा कर उसके दोनों ओर बैठे और लगे दांतो से ढोल के दोनों चमडी वाले भाग के किनारे फाडने। जैसे ही चमडियां कटने लगी, सियार बोला “होशियार रहना। एक साथ हाथ अंदर डाल शिकार को दबोचना हैं।” दोनों ने ‘हूं’ की आवाज के साथ हाथ ढोल के भीतर डाले और अंदर टटोलने लगे। अदंर कुछ नहीं था। एक दूसरे के हाथ ही पकड में आए। दोंनो चिल्लाए “हैं! यहां तो कुछ नहीं हैं।” और वे माथा पीटकर रह गए।

Related posts:

English Short, Moral Story “The Jackal and The War Drum" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8,...
Moral Story
English Short, Moral Story “Rose for Mother" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, comp...
Moral Story
English Short, Moral Story “Solution to Problems" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10,...
Children Story
Short Story "The Boy of The Farmer" for Children, moral story for kids in English for competition wi...
Children Story
English Short, Moral Story “Three Rich Man and Their Kindness” for Kids and Children for Class 5, 6,...
Moral Story
English Short, Moral Story “The monkey and the log" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 1...
Moral Story
Hindi Moral Story "Parampraon Ka Jaal", "परम्पराओं का जाल” for Kids, Full length Educational Story f...
Children Story
English Short, Moral Story “Lazy Farmer” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, compet...
Moral Story
Hindi Moral Story “Kova aur Lomdi”, “कौआ और लोमड़ी” for Kids, Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Protection of the Footmark of an Elephant" for Kids, Educational S...
Moral Story
English Short, Moral Story “The Boy and a Tree" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, c...
Moral Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Neither here nor there" for Kids, Educational Story for Students o...
Short Story
English Short, Moral Story “Encounter with a Ghost" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 1...
Moral Story
Short Story "The Ugly Tree" for Children, moral story for kids in English for competition with moral...
Children Story
Short Story " The Trees and The Lions" for Children, moral story for kids in English for competition...
Children Story
English Short, Moral Story “All that glitters is not gold” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, ...
Moral Story
English Moral Story "Believe in Yourself" for Kids, Full length Educational Story for Students of Cl...
English Story
English Inspirational Story “The Perception of Our Problems” Bedtime Moral Story for kids and Studen...
Moral Story
Short Story " The Tree and the Travellers" for Children, moral story for kids in English for competi...
Children Story
Hindi Moral Story "Sajjanta Kiski Adhik", "सज्जनता किसकी अधिक” for Kids, Full length Educational Sto...
Children Story

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *