Home » Children Story » Hindi Moral Story “Bina Soche Samjhe”, “बिना सोचे समझे” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

Hindi Moral Story “Bina Soche Samjhe”, “बिना सोचे समझे” for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6, 7, 8, 9, 10.

बिना सोचे समझे

Bina Soche Samjhe

 

एक समय शहर से कुछ ही दूरी पर एक मंदिर का निर्माण कैया जा रहा था। मंदिर में लकडी का काम बहुत थ इसलिए लकडी चीरने वाले बहुत से मजदूर काम पर लगे हुए थे। यहां-वहां लकडी के लठ्टे पडे हुए थे और लठ्टे व शहतीर चीरने का काम चल रहा था। सारे मजदूरों को दोपहर का भोजन करने के लिए शहर जाना पडता था, इसलिए दोपहर के समय एक घंटे तक वहां कोई नहीं होता था। एक दिन खाने का समय हुआ तो सारे मजदूर काम छोडकर चल दिए। एक लठ्टा आधा चिरा रह गया था। आधे चिरे लठ्टे में मजदूर लकडी का कीला फंसाकर चले गए। ऐसा करने से दोबारा आरी घुसाने में आसानी रहती हैं। तभी वहां बंदरों का एक दल उछलता-कूदता आया। उनमें एक शरारती बंदर भी था, जो बिना मतलब चीजों से छेडछाड करता रहता था। पंगे लेना उसकी आदत थी। बंदरों के सरदार ने सबको वहां पडी चीजों से छेडछाड न करने का आदेश दिया। सारे बंदर पेडों की ओर चल दिए, पर वह शैतान बंदर सबकी नजर बचाकर पीछे रह गया और लगा अडंगेबाजी करने। उसकी नजर अधचिरे लठ्टे पर पडी। बस, वह उसी पर पिल पडा और बीच मेंअडाए गए कीले को देखने लगा। फिर उसने पास पडी आरी को देखा। उसे उठाकर लकडी पर रगडने लगा। उससे किर्रर्र-किर्रर्र की आवाज निकलने लगी तो उसने गुस्से से आरी पटक दी। उन बंदरो की भाषा में किर्रर्र-किर्रर्र का अर्थ ‘निखट्टू’ था। वह दोबारा लठ्टे के बीच फंसे कीले को देखने लगा। उसके दिमाग में कौतुहल होने लगा कि इस कीले को लठ्टे के बीच में से निकाल दिया जाए तो क्या होगा?

 

अब वह कीले को पकडकर उसे बाहर निकालने के लिए जोर आजमाईश करने लगा। लठ्टे के बीच फंसाया गया कीला तो दो पाटों के बीच बहुत मजबूती से जकडा गया होता हैं, क्योंकि लठ्टे के दो पाट बहुत मजबूत स्प्रिंग वाले क्लिप की तरह उसे दबाए रहते हैं। बंदर खूब जोर लगाकर उसे हिलाने की कोशिश करने लगा। कीला जोज्र लगाने पर हिलने व खिसकने लगा तो बंदर अपनी शक्ति पर खुश हो गया। वह और जोर से खौं-खौं करता कीला सरकाने लगा। इस धींगामुश्ती के बीच बंदर की पूंछ दो पाटों के बीच आ गई थी, जिसका उसे पता ही नहीं लगा। उसने उत्साहित होकर एक जोरदार झटका मारा और जैसे ही कीला बाहर खिंचा, लठ्टे के दो चिरे भाग फटाक से क्लिप की तरह जुड गए और बीच में फंस गई बंदर की पूंछ। बंदर चिल्ला उठा। तभी मजदूर वहां लौटे। उन्हें देखते ही बंदर नी भागने के लिए जोर लगाया तो उसकी पूंछ टूट गई। वह चीखता हुआ टूटी पूंछ लेकर भागा। सीखः बिना सोचे-समझे कोई काम न करो।

 

Related posts:

Short Story " Greedy Boy" for Children, moral story for kids in English for competition with moral v...
Children Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal Shortens Road" for Kids, Educational Story for Students of ...
Short Story
Hindi Moral Story "Sher aur Khargosh”, “शेर और खरगोश” for Kids, Full length Educational Story for St...
Children Story
Hindi Moral Story “Dost Wahi Jo Sankat mein Kaam Aaye”, “दोस्त वही जो संकट में काम आए” for Kids, Ful...
Children Story
Short Story " Last Journey" for Children, moral story for kids in English for competition with moral...
Children Story
Short Story "The Boy of The Farmer" for Children, moral story for kids in English for competition wi...
Children Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Three Idols" for Kids, Educational Story for Students of class 5, ...
Moral Story
Hindi Moral Story "Apna Haath Jagannath”, “अपना हाथ जगनाथ” for Kids, Full length Educational Story f...
Children Story
English Short, Moral Story “The Tale Of How The Tiger Got His Stripes" for Kids and Children for Cla...
Moral Story
Hindi Moral Story "Jadui Kuyen", "जादुई कुएं” for Kids, Full length Educational Story for Students o...
Children Story
English Short, Moral Story “Hungry Wolf" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, competit...
Moral Story
English Moral Story "Your own karma" for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5...
Children Story
English Short, Moral Story “Real Beauty" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, competit...
Children Story
English Short, Moral Story “The Milkmaid” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, competi...
Short Story
Hindi Moral Story "Jaldbaji me Hal Sochna Budhimani Nahi", "जल्दबाजी में हल सोचना बुद्धिमानी नहीं”
Children Story
English Short, Moral Story “Challenges keeps us Energized” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, ...
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Jab Birbal Baccha Bana", "जब बीरबल बच्चा बना" for Kids, Educational ...
Children Story
Hindi Moral Story “Budhi Badi ya Bal”, “बुद्धि बड़ी या बल” for Kids, Students of Class 5, 6, 7, 8, 9...
Hindi Stories
Short Story "The Clever Bull" for Children, moral story for kids in English for competition with mor...
Children Story
English Short, Moral Story “The Mouse" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, competitio...
Moral Story

About

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*
*

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.