Hindi Moral Story “Nisparhata” “निःस्पृहता” Best Motivational Story of “Bhakt Raidas”.

निःस्पृहता

Nisparhata

भक्त रैदास जाति से चमार थे, किन्तु साधु-संतों की बड़ी सेवा करते थे। एक बार एक साधु उनके पास आया। रैदास ने उसे भोजन कराया और अपने बनाए हुए जूते उसे पहनाए। साधु बोला, “रैदासजी, मेरे पास एक अनमोल वस्तु है। आप साधु-संतों की सेवा करते हैं, इस कारण मैं उसे आपको दूँगा। इसे ‘पारस’ कहते हैं और लोहे को स्पर्श कर देने मात्र से वह सोना हो जाता है।” और ऐसा कहते-कहते उसने उनकी राँपी को पारस से स्पर्श करके सोना बना डाला। यह देख रैदासजी को दुःख हुआ कि वे अब जूते कैसे सी सकेंगे। तब साधु ने कहा, “अब आपको जूते सीने की आवश्यकता नहीं। इसी से सैकड़ों राँपियाँ आ सकती हैं।” इस पर रैदासजी बोले, “मगर यदि मैं सोना बनाता रहूँ, तो मेरे सोने की रखवाली कौन करेगा?

तब तो मुझे भगवान् के भजन के बदले सोने की ही चिंता लगी रहेगी।” किन्तु साधु न माना और पारस पत्थर को छप्पर में रखकर चला गया।

एक वर्ष बाद वह साधु फिर रैदास के पास आया और उसे यह देख आश्चर्य हुआ कि रैदास की हालत वैसी ही है। उसने जब पारस पत्थर के बारे में पूछा, तो वे बोले, “मुझे नहीं मालूम। आपने जहाँ रखा होगा, वहीं होगा।” और वह साधु यह देखकर दंग रह गया कि पारस पत्थर छप्पर में उसी स्थान पर रखा हुआ है। तब वह बोला, “आप सचमुच धन्य हैं। आप चाहते तो इस पत्थर से मंदिर बना सकते थे, निर्धनों को दान कर सकते थे।” इस पर रैदास ने उत्तर दिया, “महाराज ! अभी तो मैं छिपे-छिपे चुपचाप भगवान् का भजन कर लेता हूँ। अगर मंदिर बना या दान करता, तब तो प्रसिद्धि मिलती और लोग मुझे बहुत तंग करते । मैं तो इस झगड़े में बिलकुल नहीं पड़ना चाहता।”

Related posts:

English Short, Moral Story “The mice that ate balance" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9...
Moral Story
Hindi Moral Story “Balak ki Sujh-Bujh”, “बालक की सूझ-बूझ” for Kids, Students of Class 5, 6, 7, 8, 9,...
हिंदी कहानियां
Hindi Moral Story “Jaisa Karoge Waisa Bharoge”, “जैसा करोगे वैसा भरोगे” for Kids, Full length Educat...
Hindi Stories
Hindi Moral Story “Mann Ke Hare Haar Hai”, “मन के हारे हार है” for Kids, Full length Educational Sto...
Children Story
English Short, Moral Story “The Boy and The Apple Tree” for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, ...
Short Story
Akbar-Birbal English Moral Story "Birbal Gave Birth to the Child" for Kids, Educational Story for St...
Short Story
Hindi Moral Story "Farzi Cheque", "फर्जी चेक” for Kids, Full length Educational Story for Students o...
Children Story
English Inspirational Story “Improve the Quality of Your Life” Bedtime Moral Story for kids and Stud...
Moral Story
Akbar-Birbal Hindi Moral Story "Birbal Ne Chor Pakda", "बीरबल ने चोर को पकड़ा" for Kids, Educational ...
Children Story
Hindi Moral Story "Kisan aur Bagula", "किसान और बगुला” for Kids, Full length Educational Story for S...
Children Story
English Short, Moral Story “The Swans and The Turtle" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9,...
Moral Story
English Short, Moral Story “A Soldiers Story" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, com...
Moral Story
English Short, Moral Story “Ekalavya and Dronacharya" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9,...
Children Story
English Moral Story "Andhka Sur" for Kids, Full length Educational Story for Students of Class 5, 6,...
Children Story
English Short, Moral Story “The Monkey and the Crocodile" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8...
Children Story
Short Story " Tiger Story" for Children, moral story for kids in English for competition with moral ...
Children Story
English Short, Moral Story “Lion, Rats, Snake & The Honeycomb” for Kids and Children for Class 5, 6,...
Short Story
English Inspirational Story “Loving Wholeheartedly” Bedtime Moral Story for kids and Students.
Moral Story
English Short, Moral Story “Who bell The Cat?" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10, co...
Moral Story
English Short, Moral Story “Learn to be Satisfied" for Kids and Children for Class 5, 6, 7, 8, 9, 10...
Children Story

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *