Hindi Essay on “Sainik”, “सैनिक” Hindi Paragraph, Speech, Nibandh for Class 6, 7, 8, 9, 10 Students.

सैनिक

Sainik

सैनिक को फ़ौजी या जवान भी कहते हैं। इसकी शान निराली है इसका गणवेश (वरदी) देखकर मन खुश होता है। यह अनुशासन का पालन करता है। यह निर्भय होता है। अपने अधिकारी (अफसर) की आज्ञा मानने से यह कभी इनकार नहीं करता। सैनिक में देशभक्ति, देशसेवा की भावना कूट-कूटकर भरी हुई होती है। वह अपनी जान हथेली पर रखकर देश की रक्षा करता है। सरदी हो या गरमी, ओले पड़ रहे हों या कड़कती धूप हो, गोलियाँ चल रही हों या बम बरस रहे हों- सैनिक अपने कर्तव्य से मुहँ नहीं मोड़ता। जब देश पर कोई शत्रु आक्रमण करता है और युद्ध का बिगुल बज जाता है, तब सैनिक अपने माँ-बाप का, प्यारी पत्नी का, नन्हे-मुन्नों का मोह त्यागकर देशरक्षा के लिए चल पड़ता है। वह प्राणों की परवाह न करके वीरता दिखाता है और देश की रक्षा करता है। वह रक्षा करने वाला रक्षक धन्य है।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.